हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

ना करें ये गलतियां, वरना अटक जाएगी 15वीं किस्त

केंद्र सरकार ने आर्थिक रुप से कमजोर किसानों की मदद के लिए प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की शुरुआत की थी.

इस योजना के तहत गरीब और आर्थिक रूप से कमजोर भूमि धारक किसान परिवारों को 2000-2000 रुपये की तीन किस्त में सालाना 6,000 रुपये की आर्थिक मदद दी जाती है.

हालांकि, कुछ लोगों ने इस योजना का गलत तरीके से फायदा उठा लिया था.

 

पीएम किसान योजना

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत किसानों को सालाना 6 हजार रुपये दिए जाते हैं.

किसानों को ये पैसे 2-2 हजार की तीन अलग-अलग किस्तों में दिए जाते हैं.

इन सबके बीच कुछ गलतियां हैं जिन्हें अगर किसान करते हैं, तो उनको मिलने वाली किस्त अटक सकती है.

 

बिल्कुल ना करें ये गलतियां

पीएम किसान योजना का रजिस्ट्रेश करते वक्त नाम को लेकर, जेंडर, आधार नंबर, पता और अपनी अन्य जानकारी गलत न दें.

अगर आप ऐसा करते हैं, तो आप इस योजना के लाभ से वंचित रह सकते हैं. साथ ही अपने बैंक खाते की जानकारी गलत न दें.

अगर आपका अकाउंट नंबर या कोई अन्य जानकारी गलत होती है, तो भी आप किस्त के लाभ से वंचित रह सकते हैं.

इसलिए अपनी जानकारी को एक बार अच्छे से जरूर चेक कर लें.

 

इ-केवाईसी नहीं कराने पर भी अटक सकती है किस्त

अगर आप ई-केवाईसी नहीं करवाते हैं, तो आप किस्त के लाभ से वंचित रह सकते हैं.

नियमों के तहत योजना से जुड़े प्रत्येक लाभार्थी के लिए ये जरूरी है.

सलिए आप इसे आधिकारिक किसान पोर्टल pmkisan.gov.in पर जाकर, अपने नजदीकी सीएससी सेंटर पर जाकर या बैंक जाकर करवा सकते हैं.

 

की जा रही कार्रवाई

इस बीच खबरें आ रही है कि गलत तरीके से पीएम किसान सम्मान निधि का लाभ उठाने वालों पर सरकार ने कार्रवाई तेज कर दी है. 

भूलेखों के सत्यापन के दौरान पीएम किसान योजना का लाभ उठाने वाले अपात्र लोगों से पैसे वापस लेने की प्रक्रिया तेज कर दी है.

पैसे वापस नहीं करने की स्थिति में ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने के भी निर्देश दिए गए हैं.

 

यहां करें संपर्क

पीएम किसान योजना संबंधी किसी भी तरह की समस्या पर किसान ईमेल आईडी pmkisan-ict@gov.in पर संपर्क कर सकते हैं.

पीएम किसान योजना के हेल्पलाइन नंबर- 155261 या 1800115526 (Toll Free) या फिर 011-23381092 के जरिए कॉन्टेक्ट कर सकते हैं.

देखे बैटरी से संचालित लहसुन कटिंग मशीन