हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें
WhatsApp Group Join Now

डीएपी और यूरिया खाद को इस्तेमाल करने का नया तरीका

खेतों में लहराने लगेगी फसल

 

इस लेख में किसान भाईयों के लिए DAP और Urea खाद का सही तरीके से इस्तेमाल करने की जानकारी दी जा रही है, ताकि आपको फसलों की अधिक पैदावार प्राप्त हो.

 

अगर किसान भाईयों को फसलों में खाद डालने का जाने सही तरीका आता हो, तो इससे खेतों में फसल लहराने लगती हैं और किसानों को आमदनी भी अधिक होती है.

वैसे फसलों के लिए खाद का उपयोग उतना ही जरूरी होता है जितना कि इंसानों के लिए भोजन जरूरी होता है.

 

मगर अक्सर जानकारी के अभाव में किसान भाई फसल की अधिक उपज लेने के लोभ में अधिक खाद का उपयोग कर लेते हैं, जो कि फसलों के लिए नुकसानदायक साबित होता है.

ऐसे में किसान भाईयों को खाद के इस्तेमाल की सही जानकारी होना बहुत जरूरी है, इसलिए आज के इस लेख में किसान भाईयों के लिए DAP और Urea खाद का सही तरीके से इस्तेमाल करने की जानकारी लेकर आया है.

 

डीएपी को कैसे करें उपयोग

अगर किसान भाईयों को फसलों में डीएपी का इस्तेमाल करना है, तो हेक्टेयर के हिसाब से पौधों की संख्या के बराबर DAP उपयोग कर सकते हैं.

उदाहरण के लिए समझ लीजिए कि अगर 1 हेक्टेयर के लिए 100 किग्रा डीएपी का इस्तेमाल किया जा सकता है, जिससे फसल में जान आ जाती है, साथ ही आपकी फसल खेत में लहराने लगती है.

 

यूरिया को कैसे करें उपयोग

अगर किसान भाईयों को अपनी फसलों में यूरिया का इस्तेमाल करना है, तो इसका एक फार्मूला होता है.

दऱअसल, किसान भाई अपने खेत के हिसाब से यूरिया का उपयोग कर सकते हैं.

यानी उर्वरक की मात्रा किग्रा/हेक्टेयर = किग्रा/हेक्टेयर पोषक तत्व ÷ उर्वरक में % पोषक तत्व x 100 का फार्मूला अपना सकते हैं.

एक अनुमान के मुताबिक, यूरिया का प्रति एकड़ 200 पाउंड इस्तेमाल होता है, जिससे फसल में जान आ जाती है और फसल से बंपर पैदावार मिलती है.

यह भी पढ़े : स्प्रिंकलर सेट एवं ड्रिप सिस्टम सब्सिडी पर लेने के लिए आवेदन करें

 

यह भी पढ़े : कृषि यंत्र लेने के लिए आवेदन अब 26 सितम्बर तक

 

शेयर करें