हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें
WhatsApp Group Join Now

सस्ते दाम पर मिल रहे स्ट्रॉ रीपर और मल्चर, आवेदन आज आखिरी

दें आवेदन

 

कृषि यंत्र अनुदान योजना के तहत मध्यप्रदेश कृषि अभियांत्रिकी विभाग की ओर से किसानों को रीपर, स्ट्रॉ रीपर और मल्चर सब्सिडी पर उपलब्ध करवाए जा रहे हैं.

आवेदन की तरीख भी 6 फरवरी तक बढ़ा दी गई है.

 

आज के आधुनिक दौर में हर काम मशीनों से हो रहा है.

चाहे घर के अंदर हो या खेत-खलिहानों में, एक बटन दबाते ही आधे से ज्यादा काम निपट जाते हैं.

कुछ कृषि कार्यों को पूरा करने में कई दिन का समय लग जाता था, लेकिन आज एडवांस मशीनरी ने चंद मिनटों में इस काम को मुमकिन बना दिया है.

कई कृषि यंत्रों की कीमत काफी अधिक होती है, इसलिए राज्य सरकार इन्हें सब्सिडी पर उपलब्ध करवाती हैं.

स कड़ी में मध्य प्रदेश राज्य सरकार ने भी कृषि यंत्र अुदान योजना चलाई है, जिसके तहत मध्यप्रदेश कृषि अभियांत्रिकी विभाग की ओर से किसानों को रीपर, श्रेडर और मल्चर की खरीद पर 40 से 50 प्रतिशत अनुदान दिया जा रहा है.

 

सरकार ने बढ़ाई आवेदन की तारीख

मध्य प्रदेश कृषि अभियांत्रिकी विभाग ने कृषि यंत्रों की खरीद पर सब्सिडी पाने के लिए आवेदन की तारीख को 6 फरवरी तक बढ़ा दिया है.

इस तरीख तक किसानों के आवेदन प्राप्त करके 7 फरवरी को दोपहर 12 बजे लौटरी निकाली जाएगी.

किसानों की लिस्ट या वेटिंग लिस्ट को शाम 4 बजे तक पोर्टल पर प्रदर्शित कर दिया जाएगा.

 

किसानों को जमा करना होगा ड्राफ्ट

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, मध्य प्रदेश में रीपर, स्ट्रॉ रीपर, मल्चर और श्रेडर की खरीद पर सब्सिडी पाने के लिए किसानों ने आवेदन तो कर दिया है, लेकिन डिमांड ड्राफ्ट सब्मिट नहीं किया.

किसानों को बता दें कि आवेदन करते समय स्ट्रॉ रीपर के लिए 10,000 रुपये, स्वचालित रीपर या ट्रैक्टर रीपर के लिए 5,000 रुपये का ड्राफ्ट बनवाना अनिवार्य है.

अधिक जानकारी के लिए कृषि यंत्रों की जिलेवार सूची ई-कृषि यंत्र अनुदान पोर्टल पर भी चेक कर सकते हैं.

 

यहां करें आवेदन

यदि आप भी मध्य प्रदेश के किसान हैं तो कृषि यंत्रों पर अनुदान का लाभ पाने के लिए एमपी कृषि अभियांत्रिकी विभाग की ई-कृषि यंत्र अनुदान योजना के तहत आवेदन कर सकते हैं.

कृषि विभाग ने आवेदन की तारीख 6 फरवरी तक बढ़ा दी है.

किसान चाहें को ई-कृषि यंत्र अनुदान पोर्टल पर सुबह 12 बजे से शाम 5 बजे तक आवेदन कर सकते हैं.

इस बीच आधार कार्ड, जाति प्रमाण पत्र, बैंक ड्राफ्ट की स्कैन कॉपी, बैंक खाता वितरण के लिए पासबुक की कॉपी,  खेत के कागजात (जमाबंदी, बी-1, खतरा-खतौनी), ट्रैक्टर की आरसी, पोसपोर्ट साइज फोटो और रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर आदि के साथ ई-मित्र केंद्र या सीएससी सेंटर की मदद से https://dbt.mpdage.org पर अप्लाई कर सकते हैं.

यह भी पढ़े : गेहूं की उत्पादकता बढ़ाने के लिए इन खाद-उर्वरकों का करें छिड़काव

 

यह भी पढ़े : देशी गाय पालने वाले को मिलेगा 2 लाख रुपए का ईनाम

 

शेयर करें