हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें
WhatsApp Group Join Now

Ladli Behna Yojana पर अपडेट, अब 21 से 23 वर्ष आयु वाले भी पात्र

प्रदेश के हर गाँव में महिलाओं को लाड़ली बहना सेना में संगठित किया जायेगा।

छोटे गाँव की लाड़ली बहना सेना में 11 महिला सदस्य और बड़े गाँव में 21 महिलाएँ शामिल की जायेंगीं।

योजना में जो महिलाएँ पंजीयन नहीं करा पाई हैं, उनका पंजीयन किया जायेगा।

मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना की 1.25 करोड़ लाभार्थियों महिलाओं के लिए महत्वपूर्ण खबर है।

योजना को लेकर एक बार फिर सीएम शिवराज सिंह चौहान का बड़ा बयान सामने आया है।

सीएम ने कहा कि प्रदेश के हर गाँव में महिलाओं को लाड़ली बहना सेना में संगठित किया जायेगा।

छोटे गाँव की लाड़ली बहना सेना में 11 महिला सदस्य और बड़े गाँव में 21 महिलाएँ शामिल की जायेंगीं।

योजना में जो महिलाएँ पंजीयन नहीं करा पाई हैं, उनका पंजीयन किया जायेगा।

इसके साथ ही अब न्यूनतम 21 वर्ष आयु वर्ग की महिलाओं को भी इस योजना से जोड़ा जायेगा। पहले इस योजना में 23 वर्ष न्यूनतम आयु थी।

 

शेष महिलाओं का होगा पंजीयन

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि हम केवल लाड़ली बहना योजना तक ही सीमित नहीं रहेंगे, आजीविका मिशन के माध्यम से महिलाओं की आमदनी 10 हजार रूपए प्रतिमाह करना हमारा संकल्प है।

लाड़ली बहना योजना महिलाओं की जिंदगी बदलने के मंत्र की तरह है।

प्रदेश की लगभग सवा करोड़ महिलाओं को 15 हजार करोड़ रूपए सरकार हर माह दे रही है।

लाड़ली बहना योजना की राशि धीरे-धीरे बढ़ा कर 3 हजार रूपए तक की जायेगी।

यह बात सीएम ने ग्वालियर के मेला मैदान में भव्य मुख्यमंत्री लाड़ली बहना सम्मेलन-सह-मुख्यमंत्री आवासीय भू-अधिकार पत्र वितरण एवं विकास कार्यों के भूमि-पूजन/लोकार्पण कार्यक्रम में कही।

 

रेहट की “लाड़ली बहना सेना” को सौंपी कार्यालय की चाबी

इस दौरान सीएम ने ग्वालियर जिले की जनपद पंचायत घाटीगाँव के ग्राम रेहट से आईं महिलाओं को “लाड़ली बहना सेना” के कार्यालय भवन की चाबी एवं भवन आवंटन पत्र सौंपा और कहा कि इस कार्यालय भवन में बैठकर गाँव की महिलायें अपनी तरक्की की नई इबारत लिख सकेंगीं।

उन्होंने सेना को कार्यालय भवन उपलब्ध कराने के लिये जिला प्रशासन की प्रशंसा की।

लाड़ली बहना सेना को कार्यालय की चाबी सौंपी और विभिन्न क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाली महिलाओं को सम्मानित किया।

 

लाड़ली बहनों को 5000 जीतने का भी सुनहरा मौका

मध्य प्रदेश महिला बाल विकास विभाग ने लाड़ली बहनों को मन की बात को साझा के लिए एक प्रतियोगित का आयोजन किया है,

इसमें बहनों को अपने खातों में आए एक हजार रूपये का उपयोग कैसे कर रही है,आदि की जानकारी देनी होगी।

यदि उनके मन की बात, समाज मे महिला सशक्तिकरण और पोषण को बेहतर करने की दिशा में प्रेरणादायक होगी और उसका प्रस्तुतीकरण भी प्रभावी होगा, तो उसे सम्मानित किया जायेगा।

इसमें प्रदेश की सर्वश्रेष्ठ प्रविष्टियों को 5000 रूपये प्रति से पुरस्कृत किया जाएगा।

यह पुरस्कार राशि विजेता लाड़ली बहनों के डीबीटी सक्रिय खाते में ही भेजी जाएगी।

www.mp.mygov.in पर पोर्टल में प्रविष्टियॉं भेजने की अंतिम तिथि 5 जुलाई है।

 

जानिए नियम-शर्ते
  • प्रतियोगिता में शामिल होने के लिये प्रतिभागी बहनों को मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना का पंजीयन क्रमांक लिखना अनिवार्य होगा।पंजीयन क्रमांक के बिना प्रविष्टि को रद्द माना जाएगा।
  • प्रतिभागी बहनों को अपने खातें में यह पैसा पाकर आपको कैसा लगा, आप इन पैसों का क्या कर रही है, लाड़ली बहना योजना महिलाओं के सशक्तिकरण में कैसे उपयोगी रहेगी, इन तीन बिन्दुओं पर अपनी मन की बात लिखना अनिवार्य होगा।
  • प्रतिभागी को प्रविष्टि के साथ अपना पूरा नाम, गाँव/शहर का पिनकोड, लाड़ली बहना योजना का पंजीयन क्रमांक और अपना मोबाइल नम्बर अनिवार्य रूप से लिखना होगा।
  • एक प्रतिभागी द्वारा केवल एक ही प्रविष्टि स्वीकार की जाएगी।प्रविष्टियों का चयन और अंतिम निर्णय विशेषज्ञ पैनल द्वारा किया जाएगा।
  • इस संबंध में कोई भी पत्राचार नहीं किया जाएगा।
  • प्रविष्टियाँ विषय से संबंधित होना चाहिए, किसी भी तरह की अनुचित एवं आपत्तिजनक शब्दावली प्रयोग करने की स्थिति में प्रविष्टि रद्द कर दी जाएगी।

यह भी पढ़े : किसानों को मिलता है सीधे 3 लाख का लोन, वो भी कम ब्याज पर

 

यह भी पढ़े : किसान अपना चेहरा दिखाकर करा सकेंगे पीएम किसान योजना के लिए केवाईसी

 

शेयर करें