हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

13 मार्च के बाद इन जिलों में बारिश-ओलावृष्टि, छाएंगे बादल

12 मार्च से नया वेस्टर्न डिस्टर्बेंस एक्टिव होना शुरू हो जाएगा, जिसका असर मध्य प्रदेश पर 14 मार्च से दिखाई देगा,

इसके प्रभाव से 15 से 18 मार्च के बीच तेज बारिश, आंधी और ओले गिरने की संभावना है।

14 मार्च से हल्की बारिश का दौर शुरू होगा।

ग्वालियर अंचल का मौसम बिगड़ने से 13 मार्च से हल्के बादल छा जाएंगे और 14 से 15 मार्च के बीच में गरज चमक के साथ फिर से बूंदाबांदी के आसार हैं।

 

पश्चिमी विक्षोभ का दिखेगा प्रभाव

मध्य प्रदेश के मौसम में बदलाव का दौर जारी है। अगले हफ्ते एक बार फिर बारिश और ओलावृष्टि के आसार है।

एमपी मौसम विभाग की मानें तो शनिवार को कुछ इलाकों में मौसम में मामूली बदलाव हो सकता है, लेकिन अधिकांश हिस्सों में मौसम साफ रहेगा।

11, 12 और 13 मार्च तक मौसम ऐसा ही रहेगा, लेकिन इसके बाद बारिश का दौर शुरू हो जाएगा।

भोपाल में 11 मार्च को मौसम साफ हो जाएगा। 12 और 13 मार्च को बादल छाए रहेंगे। वहीं 14 मार्च से हल्की बारिश का दौर शुरू होगा।

 

पश्चिमी विक्षोभ का दिखेगा असर

एमपी मौसम विभाग के मुताबिक, 12 मार्च से नया वेस्टर्न डिस्टर्बेंस एक्टिव होना शुरू हो जाएगा, जिसका असर मध्य प्रदेश पर 14 मार्च से दिखाई देगा, इसके प्रभाव से 15 से 18 मार्च के बीच तेज बारिश, आंधी और ओले गिरने की संभावना है।

14 मार्च से हल्की बारिश का दौर शुरू होगा। ग्वालियर अंचल का मौसम बिगड़ने से 13 मार्च से हल्के बादल छा जाएंगे और 14 से 15 मार्च के बीच में गरज चमक के साथ फिर से बूंदाबांदी के आसार हैं।

18 मार्च तक बारिश और ओलावृष्टि होने की संभावना है।

18 मार्च तक मौसम का मिजाज ऐसा ही बना रहेगा, इसके बाद 20 मार्च से मौसम में बदलाव नजर आएगा।

 

14 मार्च से बारिश-ओलावृष्टि के आसार

एमपी मौसम विभाग के मुताबिक,  वर्तमान में एक पश्चिमी विक्षोभ ईरान के ऊपर है जो अगले दो दिन में उत्तर भारत में सक्रिय होगा।

14 मार्च को उत्तर भारत सक्रिय होने वाले इस पश्चिमी विक्षोभ के असर से इंदौर सहित प्रदेशभर में 14 से 20 मार्च तक बादल छाए रहने के साथ हल्की बूंदाबांदी होने की संभावना है।

शनिवार व रविवार को मौसम शुष्क रहेगा और तापमान में वृद्धि देखने को मिलेगी। जबलपुर में मौसम शुष्क रहेगा।

वर्षा, बादल छाने की संभावना भी नही है।

लेकिन बालाघाट, उमरिया, अनूपपुर, शहडोल सहित कुछ जिलों में गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ने की संभावना है।

शिवपुरी, श्योपुर, मुरैना पर ज्यादा प्रभाव पड़ेगा। ग्वालियर जिले की तहसीलें भी प्रभावित रहेंगी।

यह भी पढ़े : सीएम शिवराज ने अधिकारियों को दिए निर्देश, जल्द पूरा होगा सर्वे का कार्य

 

यह भी पढ़े : कर्जदार किसानों को मध्य प्रदेश सरकार ने बजट में दिया तोहफ़ा

 

शेयर करें