हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें
WhatsApp Group Join Now

सम्पूर्ण भारत का मई 31, 2022 का मौसम पूर्वानुमान

देश भर में बने मौसमी सिस्टम

चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र दक्षिण पूर्व अरब सागर और केरल के आसपास के हिस्सों पर बना हुआ है, यह औसत समुद्र तल से 5.8 किलोमीटर ऊपर तक फैला हुआ है।

एक चक्रवाती परिसंचरण के रूप में पश्चिमी विक्षोभ उत्तरी पाकिस्तान और इससे सटे जम्मू-कश्मीर पर बना हुआ है।

एक पूर्व पश्चिम ट्रफ रेखा उत्तर पश्चिमी राजस्थान से लेकर हरियाणा, उत्तर प्रदेश, बिहार और उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल से गुजरते हुए आसाम तक फैली हुई है।

 

पिछले 24 घंटों के दौरान देश भर में हुई मौसमी हलचल

पिछले 24 घंटों के दौरान, लक्षद्वीप केरल, झारखंड और पूर्वोत्तर बिहार में हल्की से मध्यम बारिश के साथ एक दो स्थानों पर भारी बारिश हुई।

उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, तेलंगाना, उत्तर तटीय ओडिशा और उत्तर पूर्वी मध्य प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश हुई।

आंतरिक ओडिशा, छत्तीसगढ़ के कुछ हिस्सों, पूर्वी एमपी, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और दिल्ली एनसीआर, पूर्वी राजस्थान, हरियाणा और असम के अलग-अलग हिस्सों में हल्की छिटपुट बारिश हुई।

 

अगले 24 घंटों के दौरान मौसम की संभावित गतिविधि

अगले 24 घंटों के दौरान, लक्षद्वीप, सिक्किम और उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, असम और मेघालय में हल्की से मध्यम बारिश के साथ एक स्थानों पर भारी बारिश संभव है।

बाकी पूर्वोत्तर भारत, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, केरल, तमिलनाडु के कुछ हिस्सों, तटीय कर्नाटक, उत्तर पूर्वी बिहार और पश्चिमी हिमालय में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है।

झारखंड, ओडिशा, गंगीय पश्चिम बंगाल, आंतरिक कर्नाटक, आंध्र प्रदेश और छत्तीसगढ़, विदर्भ, मराठवाड़ा और कोकण और गोवा के कुछ हिस्सों में हल्की बारिश संभव है।

साभार: skymetweather.com

यह भी पढ़े : गन्ने में अधिक फुटाव, अधिक मोटाई और अधिक लम्बाई के लिए क्या करें

 

यह भी पढ़े : सरकार डीएपी की एक बोरी पर अब देगी 2501 रुपए की सब्सिडी

 

शेयर करे