हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें
WhatsApp Group Join Now

आखिरी दौर की बारिश से गेंदे को नुकसान

 

बीते साल से महंगे हुए फूल

 

महाराष्ट्र से किसान फूल लेकर पहुंचे इंदौर।

खेरची बाजार में गेंदे की माला 120 से 140 रुपये किलो में बेची जा रही है।

 

रोशनी के पर्व पर फूलों की साल में सबसे ज्यादा मांग नजर आती है।

पूजन से लेकर घर प्रतिष्ठानों की सजावट के लिए फूलों का सबसे ज्यादा इस्तेमाल दीपावली के दिन ही किया जाता है।

इंदौर की थोक फूल मंडी में 80 टन से ज्यादा फूल पहुंचे।मांग के चलते लगभग पूरा माल बिक भी गया।

अक्टूबर माह के आखिरी में हुई बारिश से फूलों की फसल को नुकसान हुआ। लिहाजा इस साल फूलों पर महंगाई की रंगत नजर आ रही है।

 

फूल महंगे बिक रहे है

दीपावली पर गेंदे के फूल की सबसे ज्यादा मांग रहती है।

देवी अहिल्याबाई होलकर थोक फूल मंडी में बुधवार को गेंदे के दाम करीब 80 से 90 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गए।

फूल कारोबारी राकेश गोयल के अनुसार यूं तो 50 रुपये के दाम पर भी गेंदा बिका लेकिन उसकी क्वालिटी खराब थी।

हल्की क्वालिटी का दाग लगा हुआ गेंदा ही इस भाव बेचा गया। बीती दीपावली से तुलना की जाए तो इस बार फूल भी महंगे बिक रही है।

बीती दीपावली पर अच्छी क्वालिटी का गेंदा करीब 50 से 60 रुपये किलों के भाव पर बिका।

इस बार अच्चे फूलों की आवक भी कम नजर आ रही है। आखिरी दौर की बारिश से फसल खराब होने के कारण उत्पादन घटा था।

 

खर्च भी बढ़ गए

इंदौर की मंडी में महाराष्ट्र की ओर से भी फूलों की आवक हुई। नौगावां से फूल लेकर पहुंचे किसान विष्णुहरी पटेल के अनुसार इस बार फूलों के दाम अच्छे मिले।

हालांकि किसानों के पास माल भी कम है। हालांकि बढ़े हुए दामों का पूरा लाभ किसानों को नहीं मिल रहा है।

डीजल महंगा होने के कारण भाड़ा इस साल करीब-करीब दोगुना देना पड़ा है। मजदूरी और मंडी के खर्च भी बढ़ गए हैं।

दूसरी ओर खेरची बाजार में गेंदे की माला 120 से 140 रुपये किलो के दामों पर बेची जा रही है।

 

गुलाब भी महंगा

दीपावली पर गेंदे के साथ गुलाब की भी मांग अच्छी नजर आई। गुलाब के फूल 200 से 250 रुपये प्रति किलो के दाम पर थोक मंडी में बिके।

कारोबारियों के अनुसार आम दिनों के मुकाबले दाम करीब चार गुना है। मांग अच्छी है।

गुलाब की आवक भी इस बार कम है। आस पास के तमाम गांव-कस्बों से गुलाब इंदौर मंडी में बिकने आए।

रअसल इंदौर में मांग और खपत के साथ दाम भी अच्छे मिलते हैं।

source : naidunia

 

यह भी पढ़े : ये हैं प्याज की 5 सबसे उन्नत किस्में

 

यह भी पढ़े : गेहूं और सरसों की अच्छी पैदावार के लिए वैज्ञानिक सलाह

 

यह भी पढ़े : किसानो को सलाह, प्रति हैक्टेयर 100 किलोग्राम गेहूं का उपयोग बुआई में करें

 

शेयर करे