हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें
WhatsApp Group Join Now

ककड़ी की खेती से मालामाल हो रहे मध्य प्रदेश के किसान

मध्य प्रदेश के राजगढ़ जिले की ककड़ी देशभर के लोगों को खूब भा रही है.

किसान भी इसकी खेती से बढ़िया लाभ कमा रहे हैं.

एक हेक्टेयर में 200 क्विंटल ककड़ी की उपज हासिल करके किसान मात्र 100 दिनों में 4 लाख रुपये तक का मुनाफा हासिल कर रहा है.

 

सालाना इतनी कमाई

मध्य प्रदेश का राजगढ़ ककड़ी की खेती का हब बनता जा रहा है. जिले में तकरीबन 400 हेक्टेयर में इसकी खेती हो रही है.

सालाना 1 करोड़ 60 लाख रुपये की फसल बेची जा रही है.

ज्यादातर ककड़ी की खपत लोकल में ही हो जाती है. बाकी बची फसल को अन्य प्रदेशों में निर्यात किया जाता है.

 

1 हेक्टेयर में 20 क्विंटल की उपज

अगर किसान 1 हेक्टेयर में ककड़ी की फसल लगाता है तो उसे 200 क्विंटल की उपज हासिल होती है.

इस दौरान 100 दिनों में उन्हें तकरीबन 4 लाख रुपये का फायदा हो जाता है.

किसान जगन्नाथ बताते हैं कि मैंने एक बीघे में खीरा-ककड़ी की फसल लगा रखी है. 200 क्विंटल की पैदावार हुई है.

यह फसल 60 से 70 दिनों के कम समय में आ जाती है. मार्केट में ककड़ी की डिमांड है, इसलिए अच्छा मुनाफा हासिल हो रहा है.

 

फाइबर ककड़ी खाने के फायदे

डॉक्टर सुधीर कलावत (एमडी हृदय रोग विशेषज्ञ जिला चिकित्सालय राजगढ़) ने जानकारी दी कि गर्मियों में ककड़ी खाने के अनगिनत फायदे हैं.

इसमें काफी फाइबर पाया जाता है. बहुत सारे विटामिन, मिनरल्स, यूट्रन होते हैं. कैलोरी कम होती है. 

ककड़ी में विटामिन B, C कोपर, मैग्नीशियम विटामिन K पाया जाता है, यह डाइजेशन के लिए फायदेमंद है.

यह चेहरे के ग्लो को बढ़ाने में मदद करती है. साथ ही आपकी बॉडी के यूरिक एसिड को किडनी के माध्यम से कम करने का प्रयास करती है.

 

लोगों को खूब भा रही राजगढ़ की फाइबर ककड़ी

मध्य प्रदेश के राजगढ़ जिले की ककड़ी देशभर में लोगों को खूब भा रही है. किसान भी इसकी खेती से खूब लाभ कमा रहे हैं. 

उद्यानिकी विभाग उपसंचालक पीआर पांडे ने बताया कि जिले में गर्मी के सीजन में तालाब के किनारे ककड़ी की खेती हो रही है.

 

किसानों को हो रहा मुनाफा

राजगढ़ जिले के नरसिंहगढ़ जिला मुख्यालय से 4 किलोमीटर दूर ग्राम गादिया के किसान जयराम कुशवाहा ने बताया कि ककड़ी की खेती मैं कम समय में ज्यादा फायदा होता है.

2 महीने में फसल आ जाती है. आधी फसल को नरसिंहगढ़ और ब्यावरा मंडी में फसल बेच चुका हूं.

अभी तक मुझे 50 हजार रुपये का मुनाफा मिल चुका है. वहीं, राजगढ़ के ग्राम गादीया के किसान विक्रम सिंह ने बताया कि एक बीघा जमीन में खीरा ककड़ी की फसल लगाई एक से डेढ़ महीने बाद फसल आ गई थी.

12 क्विंटल तक का माल बेच चुके हैं. 8 क्विंटल माल बेचना शेष है.

यह भी पढ़े : गर्मी में लगाई गई मूंग एवं उड़द भी न्यूनतम समर्थन मूल्य पर ख़रीदेगी सरकार

 

यह भी पढ़े : इस योजना के तहत पशुपालन लोन के साथ ही सरकार दे रही है ब्याज अनुदान

 

शेयर करें