हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें
WhatsApp Group Join Now

देश के किसानों ने कोरोना काल में भी खेतों में खूब बहाया पसीना

 

ताकि हमारे घरों तक पहुंचे भोजन

 

रबी फसल की बात करें तो देश में 315.80 लाख हेक्टेयर में बोई गई कुल गेहूं में से 81.55 फीसदी की कटाई पहले ही हो चुकी है.

 

कोरोना महामारी की दूसरी लहर के बीच किसान और खेतिहर मजदूर खेतों में पसीना बहा रहे हैं.

 

तमाम प्रतिकूल स्थितियों में भी किसान मेहनत कर रहे हैं, ताकि हमारे घरों तक भोजन पहुंच सके. केंद्र और राज्य सरकारों के हस्तक्षेप और किसानों की मेहनत से रबी फसल की कटाई बिना व्यवधान के पूरी हो रही है.

सरकार के मुताबिक, यह सुनिश्चित किया गया है कि कटाई की गतिविधियों में किसी तरह की दिक्कतें न हों. किसानों के फायदे के लिए फसलों की समय पर खरीद सुनिश्चित की जा रही है.

 

यह भी पढ़े : केले की खेती कर रहे किसानों के लिए मोबाइल ऐप लॉन्च

 

रबी फसल की बात करें तो देश में 315.80 लाख हेक्टेयर में बोई गई कुल गेहूं में से 81.55 फीसदी की कटाई पहले ही हो चुकी है.

राज्यवार कटाई में भी वृद्धि हुई है और यह राजस्थान में 99 फीसदी, मध्य प्रदेश में 96 फीसदी, उत्तर प्रदेश में 80 फीसदी, हरियाणा में 65 फीसदी और पंजाब में 60 फीसदी तक पहुंच गई है. हरियाणा, पंजाब और उत्तर प्रदेश में कटाई अपने चरम पर है और अप्रैल 2021 के अंत तक इसके पूरे होने की संभावना है.

 

158.10 लाख हेक्टेयर में बोई गई दालों में से, चना, मसूर, उड़द, मूंग और मटर की कटाई पूरी हो चुकी है.

कृषि मंत्रालय ने कहा कि दलहन की बुवाई 158.10 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में की गई है. ​इनमें चना, मसूर, उड़द, मूंग और मटर की कटाई पूरी हो चुकी है.

 

मई के मध्य तक जारी रहेगी गन्ने की कटाई

गन्ने के फसल की बात करें तो कुल 48.52 लाख हेक्टेयर (चीनी के मौसम 2020-21) में गन्ने की बुआई की गई थी. इसमें से छत्तीसगढ़, कर्नाटक और तेलंगाना में कटाई पूरी हो गई है.

बिहार, आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात, हरियाणा, मध्य प्रदेश, उत्तराखंड और पश्चिम बंगाल में 92 से 98 फीसदी कटाई पूरी हो चुकी है. उत्तर प्रदेश में 84 फीसदी कटाई हो चुकी है और यह मई 2021 के मध्य तक जारी रहेगी.

 

यह भी पढ़े : गेहूं की सरकारी खरीद जोरों पर

 

इन राज्यों में धान की कटाई का हाल

आंध्र प्रदेश, असम, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, केरल, ओडिशा, तमिलनाडु, तेलंगाना, त्रिपुरा और पश्चिम बंगाल के कुल 45.32 लाख हेक्टेयर में बोए गए चावल (जाड़े के मौसम) में से 18.73 लाख हेक्टेयर में कटाई हो चुकी है.

बाकी की फसल कटाई के चरण में पहुंच रही है. आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और तमिलनाडु में रबी चावल की कटाई लगभग पूरी हो चुकी है.

 

कितनी हुई तिलहन फसलों की कटाई ?

तिलहन की फसलों में सरसों की बुआई लगभग 70 लाख हेक्टेयर में की गई थी. इसमें से राजस्थान, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल, झारखंड, गुजरात, छत्तीसगढ़, ओडिशा और असम में 100 फीसदी कटाई हो चुकी है.

हरियाणा में कटाई लगभग पूरी (99.95 फीसदी) हो चुकी है और पंजाब में लगभग 77 फीसदी कटाई हुई है.

मूंगफली की बुआई 7.34 लाख हेक्टेयर में की गई थी, जिनमें से 62.53 फीसदी कटाई हो चुकी है.

 

यह भी पढ़े : सब्सिडी पर 50 मीट्रिक टन क्षमता का प्याज भंडार गृह बनवाने के लिए आवेदन करें

 

source 

 

शेयर करे