हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

गाय की इन नस्ल पालने वाले किसानों ने जीता 2 लाख रुपए का पुरस्कार

देश में देसी गोवंश के संरक्षण एवं किसानों को इन गायों को पालने के लिए प्रोत्साहित करने हेतु सरकार द्वारा कई योजनाएँ चलाई जा रही है।

इसमें मध्य प्रदेश सरकार द्वारा प्रदेश एवं देश की देसी गायों को पालने वालों को प्रोत्साहित करने के लिए “मुख्यमंत्री पशुपालन विकास योजना” चलाई जा रही है।

योजना के तहत राज्य में 1 फरवरी से लेकर 15 फरवरी के दौरान प्रतियोगिता आयोजित की गई थी।

जिसमें राज्य स्तर पर जितने वाले किसानों को 28 मई के दिन पुरस्कृत किया गया।

 

उन्नत नस्ल की दुधारु गायों के विजेता को मिला पुरस्कार

मध्य प्रदेश के पशुपालन एवं डेयरी मंत्री श्री प्रेमसिंह पटेल ने बड़वानी जिले के ग्राम धाबाबावड़ी के भीमा नायक प्रेरणा केन्द्र में रविवार को मुख्यमंत्री पशुपालन विकास योजना में गो-पालकों को राज्य स्तरीय पुरस्कार वितरित किये।

इसमें सबसे अधिक दूध देने वाली देसी गाय पालने वालों को पुरस्कार दिया गया।

 

प्रदेश की मालवी नस्ल की गाय को मिला प्रथम पुरस्कार

मंत्री श्री पटेल ने प्रदेश की मूल गो-वंशीय नस्ल की गायों की प्रतियोगिता में

  • मालवी नस्ल की गाय द्वारा प्रतिदिन औसत 14.760 लीटर दूध देने पर गो-पालक शाजापुर निवासी श्री आशीष शर्मा को 2 लाख रूपये का प्रथम पुरस्कार,
  • मालवी नस्ल की गाय द्वारा 12.882 लीटर दूध देने पर गो-पालक बांदरबेला, बड़नगर निवासी श्री घनश्याम प्रजापत को एक लाख रूपये का द्वितीय पुरस्कार तथा
  • निमाड़ी नस्ल की गाय द्वारा प्रतिदिन औसत 11.96 लीटर दूध देने पर गो-पालक पटलावद, धरमपुरी निवासी श्री दीपक वर्मा को 50 हजार रूपये का तृतीय पुरस्कार, प्रमाण-पत्र एवं प्रतीक-चिन्ह देकर पुरस्कृत किया।

कार्यक्रम में संचालक पशुपालन एवं डेयरी डॉ. आर.के. मेहिया भी मौजूद थे।

 

देश की गिर नस्ल की गाय को मिला प्रथम पुरस्कार

  1. वहीं भारतीय उन्नत नस्ल की दुधारू गायों की प्रतियोगिता में गिर नस्ल की गाय द्वारा प्रतिदिन औसत 25.21 लीटर दुग्ध उत्पादन करने पर नयागाँव जिला छतरपुर निवासी गो-पालक श्री राजमणी यादव को 2 लाख रूपये का प्रथम,
  2. गिर नस्ल की गाय द्वारा प्रतिदिन औसत 22.45 लीटर दुग्ध उत्पादन पर ग्वालटोली जिला नीमच के गोपालक श्री नीलू मुरारी दीवान को एक लाख रूपये का द्वितीय पुरस्कार और
  3. साहीवाल नस्ल की गाय द्वारा प्रतिदिन औसत 20.99 लीटर दुग्ध उत्पादन करने पर कथुरा बेढ़न जिला सिंगरौली निवासी गो-पालक श्री रावेन्द्र कुमार पाण्डे को तृतीय पुरस्कार 50 हजार रूपये, प्रमाण-पत्र एवं प्रतीक-चिन्ह देकर पुरस्कृत किया।

 

कार्यक्रम में इन्हें भी किया गया सम्मानित

पशुपालन मंत्री श्री पटेल ने बड़वानी जिले के प्रगतिशील कृषक सर्वश्री जगदीश, संजय भाई, अन्नू मेहता, महेन्द्र गोस्वामी, संतोष पाटीदार, हितेन्द्र पाटीदार और राधेश्याम धनगर को शॉल-श्रीफल देकर सम्मानित किया।

उन्होंने उत्कृष्ट कार्य करने वाले पशुपालन विभाग के अधिकारी-कर्मचारियों को भी सम्मानित किया।

कार्यक्रम में जन-प्रतिनिधि, प्रशासनिक अधिकारी, पशुपालन विभाग के वरिष्ठ अधिकारी और बड़ी संख्या में पशुपालक मौजूद थे।

 

क्या है मुख्यमंत्री पशुपालन विकास योजना

पशुपालन विभाग द्वारा मध्यप्रदेश की मूल नस्ल की गाय- मालवी, निमाड़ी और केनकथा के साथ भारतीय उन्नत नस्ल के गो-पालन को बढ़ावा दिया जा रहा है।

मध्य प्रदेश की मूल गोवंश एवं भारतीय उन्नत नस्ल की दुधारू नस्लों को शामिल किया गया है।

जिसमें मध्य प्रदेश की मूल गौवंशीय नस्ल प्रतियोगिता 15 जिलों आगर-मालवा, शाजापुर, राजगढ़, उज्जैन, इंदौर, खंडवा, खरगोन, बुरहानपुर, बड़वानी, धार, दमोह, पन्ना, टीकमगढ़, छतरपुर और निवाड़ी में की जाती है।

प्रदेश की मूल गौवंशी नस्ल-मालवी, निवाड़ी और केनकथा नस्ल गाय का प्रतिदिन दुग्ध उत्पादन 4 लीटर या अधिक और भारतीय गाय का 6 लीटर या उससे अधिक होना चाहिए।

इस प्रतियोगिता में भी ज़िला स्तर एवं राज्य स्तर पर प्रथक पुरस्कार दिए जाते हैं।

दोनों प्रकार की गायों में जितने वालों ज़िला स्तर पर एवं प्रादेशिक स्तर पर पुरस्कार दिए जाने का प्रावधान किया गया है।

जिसमें दोनों प्रतियोगिताओं में जिला स्तरीय प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय पुरस्कार क्रमश: 51 हजार, 21 हजार और 11 हजार रूपये दिया जाता है।

इसी तरह राज्य स्तरीय पुरस्कार भी क्रमश: 2 लाख, 1 लाख और 50 हजार रूपये का होगा।

तीनों पुरस्कार के अलावा शेष प्रतियोगी गायों को प्रमाण-पत्र प्रदान किए जाते हैं।

यह भी पढ़े : नहीं बढ़ेंगे यूरिया एवं डीएपी खाद के दाम

 

यह भी पढ़े : इस योजना में किसानों को मिलेंगे 3 लाख रुपये

 

शेयर करें