हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें
WhatsApp Group Join Now

किसान इस वर्ष समर्थन मूल्य पर गेहूं बेचने के लिए यह जरूर करें

 

मोबाइल से करें पंजीयन

 

मध्य पदेश में समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी 25 मार्च से शुरू होगी इसके पहले इस वर्ष व्यवस्था में परिवर्तन किया गया है।

समर्थन मूल्य खरीदी को लेकर नियमों में बदलाव हुआ है।

इन बदलावों के आधार पर ही अब किसान को पंजीयन करवाना होगा अन्यथा समर्थन मूल्य पर गेहूं नहीं बेंच पाएंगे।

 

मध्यप्रदेश में गेहूं के समर्थन मूल्य पर जो गेहूं बेचने के लिए किसानों को इस बार नवीन सिरे से पंजीयन करवाना होगा।

पिछले वर्ष करवाए गए पंजीयन अमान्य कर दिए गए हैं।

सभी किसानों को नए सिरे से समर्थन मूल्य पर गेहूं बेचने के लिए पंजीयन करवाना आवश्यक है।

 

यहां करवाएं पंजीयन

  • एमपी आनलाइन कियोस्क सेंटर
  • कामन सर्विस सेंटर
  • लोक सेवा केंद्र और
  • साइबर कैफे पर जाकर भी पंजीयन करा सकते हैं।
  • किसानों को पंजीयन शुल्क पचास रुपये देना होगा।

 

पंजीयन के लिए यह दस्तावेज आवश्यक

  • जमीन की पावती,
  • आधार कार्ड,
  • बैंक अकाउंट की पासबुक
  • बैंक अकाउंट से आधार कार्ड लिंक होना चाहिए
  • समर्थन मूल्य खरीदी को लेकर नए नियमों के अनुसार अब किसान का खाता आधार कार्ड से लिंक होना अनिवार्य है। यह अति महत्वपूर्ण है। अगर खाते से आधार कार्ड लिंक नहीं है, तो भुगतान अटक सकता है। जिन किसानों के खाते और आधार लिंक ना हों, वह यह काम करा लें।
  • किसान का पंजीयन उसी स्थिति में होगा, जब भू-अभिलेख में दर्ज खाते, खसरा, आधार कार्ड का मिलान हो, तभी किसान पंजीयन हो सकेगा। विसंगति होने पर सुधार कार्य तहसील कार्यालय से होगा। पंजीयन के समय किसान को बैंक खाता नंबर और आइएफएससी कोड नहीं देना होगा। यह जानकारी सरकार आधार नंबर से लेगी।
  • किसान का पंजीयन तभी होगा जब भू-अभिलेख में दर्ज खाते एवं खसरे में दर्ज नाम का मिलान आधार कार्ड में दर्ज नाम से होगा।
  • यदि इसमें अंतर पाया जाता है तो फिर तहसील कार्यालय से सत्यापन कराया जाएगा।
  • सत्यापन में यदि किसान की जानकारी सही पाई ताकि है तो फिर पंजीयन को मान्य किया जाएगा।
  • किराए पर भूमि लेकर खेती करने वाले, बटाईदार और वन पट्टाधारी किसानों को पंजीयन कराने के लिए पंजीयन केंद्र ही जाना होगा। इन्हें यह भी बताना होगा कि वे कितनी उपज बेचेंगे और उसे भंडारित करके कहां रखा है।
  • किसानों को इस बार उपज बेचने के लिए एमएसएम नहीं भेजे जाएंगे। इसके स्थान पर उन्हें उपार्जन केंद्र, उपज बेचने के लिए लाने की तारीख और स्लाट का चयन करना होगा।

 

स्वयं मोबाइल से ऐसे करें पंजीयन

किसान खुद अपने एंड्रॉयड फोन से पंजीयन कर सकते हैं।

इसके अलावा ग्राम पंचायत, जनपद पंचायत, तहसील, सरकारी समिति, SHG/FPO द्वारा संचालित सुविधा केंद्र पर रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं।

इसके अलावा कियोस्क, लोक सेवा केंद्र, साइबर कैफे पर भी रजिस्ट्रेशन कराया जा सकता है।

जानिए प्रक्रिया :-

  • किसान खुद भी पंजीयन कर सकते हैं। इसके लिए उन्हें अपने मोबाइल में गूगल पर www.mpeuparjan.nic.in पर जाना होगा।
  • वहां नीचे उन्हें दो विकल्प मिलेंगे- खरीफ और रबी। रबी के विकल्प में “रबी-2022-23” लिखा दिखेगा।
  • उस पर क्लिक करने पर एक नई लिंक खुलेगी। उसमे दो ऑप्शन दिखेंगे।
  • पहले ऑप्शन पर लिखा होगा- किसान पंजीयन/आवेदन सर्च।
  • उस पर क्लिक करते ही नई लिंक खुलेगी, जिसमें खसरा नंबर, नाम, आधार नंबर, बैंक खाता संख्या आदि विकल्प दिखेंगे।
  • इन सभी को भरकर किसान को सबमिट (submit) बटन दबाना होगा।
  • इसके बाद रजिस्टर्ड नंबर पर एक OTP आएगा। OTP डालकर सबमिट करते ही किसान का रजिस्ट्रेशन हो जाएगा।

 

गेहूं का समर्थन मूल्य यह है

किसानों को आधार नंबर के साथ मोबाइल नंबर और बैंक खाते को अपडेट करें ताकि भुगतान में कोई समस्या न आए। 

समर्थन मूल्य (एक हजार 975 रुपये प्रति क्विंटल) पर उपार्जन 25 मार्च से साढ़े तीन हजार से ज्यादा केंद्रों पर प्रारंभ होगा।

 

उपज बेचने की स्वतंत्रता रहेगी

इस बार किसानों को नई सुविधाएं दी गई हैं।

किसान किस सेंटर पर अपनी उपज बेचना चाहते हैं, किस तारीख को उपज लेकर जाएंगे, यह तय करने की सुविधा किसानों को दी गई है।

 

किसान रजिस्ट्रेशन के समय इन दोनों विकल्पों का इस्तेमाल कर सकते हैं।

कियोस्क, लोक सेवा केंद्र पर रजिस्ट्रेशन की शुल्क भी शासन ने तय कर दी है।

source

यह भी पढ़े : e uparjan mp किसान ऑनलाइन पंजीयन समर्थन मूल्य खरीदी | 2022-23

 

यह भी पढ़े : इस तारीख को आएगा बैंक खातों में फसल बीमा का पैसा

 

शेयर करे