हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें
WhatsApp Group Join Now

ICAR-IISR के वैज्ञानिकों ने प्राप्त की बीजों की गुणवत्ता बढ़ाने वाली बीजावरण संरचना प्रौद्योगिकी

 

बीजावरण संरचना प्रौद्योगिकी

 

देश भर के कृषि अनुसंधान संस्थान समय–समय पर विभिन्न प्रकार की खोज करते रहते हैं | जिसमें बीज, कीटनाशक, उर्वरक, तथा अन्य प्रकार के अनुसंधान शामिल है |

इसके तहत भारतीय मसाला अनुसंधान संस्थान कोझिकोड (केरल) के तीन कृषि वैज्ञानिकों ने बीजावरण संरचना (सीड कोटिंग कंपोजीशन) और इसकी तैयारियों के लिए एकस्व अधिकार (350698) प्राप्त किया है |

संस्थान ने बीजों के लिए पीजीपीआर/लाभकारी रोगाणुओं के बीजावरण प्रौद्योगिक का सफलतापूर्वक विकास, क्षेत्र–परीक्षण और व्यवसायीकरण किया है |

 

यह भी पढ़े : गेहूं की सरकारी खरीद जोरों पर

 

बीजावरण संरचना प्रौद्योगिकी क्या है और कैसे काम करती है ?

यह सक्रिय यौगिक, अर्थात पौधों के विकास के नियामकों, सूक्ष्म पौषक तत्वों और सूक्ष्मजीव प्रतिरक्षा सीरम (माइक्रोबियल इनोक्युलेंट्स) के वितरण में सुधार करने के उद्देश्य से बीजों की सतह पर बहिर्जात सामग्रियों का एक अनुप्रयोग है जो अंकुरण और पौधे के विकास को बढ़ा सकता है |

राइजोबैक्टीरिया को बढ़ावा देने वाले पौधे के विकास का उपयोग करने वाला यह आविष्कार एवं इसकी तैयारी बीजों की व्यवहार्यता को संग्रहित करने और एक मध्यवर्ती राज्य में लेपित जीवों को बनाए रखने में भी मदद करता है |

 

यह प्रक्रिया बीज की कमी को रोकती है और पर्यावरण तनाव से सुरक्षा सुनिश्चित करती है |

यह भंडारण कीटों के खिलाफ बीज की रक्षा भी करता है, जो बीजों की दीर्घायु को बढ़ता है, जो कि अंकुरण को सुनिश्चित करता है और उभरते हुए बीजों को बीजों पर मौजूद जीवों की मदद से स्थापित करने में मदद करता है |

आवश्यक बीज की बढ़ी हुई व्यवहार्यता मात्रा के कारण कम होता है जबकि बढ़ी हुई प्राथमिक वृद्धि के परिणामों से खरपतवार की वृद्धि कम हो जाती है |

 

यह भी पढ़े : कपास के किसान ध्यान दें, इस बार मिल सकती है बंपर पैदावार

 

इससे क्या लाभ होगा ?

यह भंडारण के दौरान व्यवहार्यता एवं बीज की गुणवत्ता को बढ़ता है और भंडारण कीट घटना से बीजों की रक्षा करता है |

बीज के अंकुरण और शक्ति को बढ़ाने के साथ–साथ, यह उपज को 15% से 30% तक सुधारने में मदद करता है | यह बीज दर की आवश्यकता को कम करने में भी सहायक है |

सब्जियों सहित सभी प्रकार के बीजों के लिए उपयुक्त होने की वजह से इसका उपयोग जैविक खेती में भी किया जा सकता है |

 

इन वैज्ञानिकों ने दिया योगदान

भारतीय मसाला अनुसंधान संस्थान, कोझिकोड के डॉ. एम. आनंदराज, डॉ.वाई.के.बिनी और डॉ.ए.के.जानी की टीम ने इस प्रौद्योगिक को विकसित किया है |

 

यह भी पढ़े : सब्सिडी पर 50 मीट्रिक टन क्षमता का प्याज भंडार गृह बनवाने के लिए आवेदन करें

 

source 

 

शेयर करे