हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें
WhatsApp Group Join Now

वापस ले लिया जाएगा पीएम किसान सम्मान निधि योजना का पैसा

आप भी इस लिस्ट में हैं शामिल तो

 

पीएम किसान सम्मान निधि योजना का अवैध तरीके से फायदा उठाने के कई मामले सामने आए हैं.

अब ऐसे अवैध लाभार्थियों को पैसे वापस लौटाने के लिए नोटिस भेजा जा रहा है. नोटिस भेजने की यह प्रकिया कई महीनों से चल रही है.

कहा गया है कि पैसे वापस नहीं करने पर इन लोगों के खिलाफ कार्रवाई भी की जा सकती है.

 

किसानों को 6 हजार रुपये दिए जाते हैं

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत हर चार महीने के अंतराल पर किसानों को 2-2 हजार रुपये की राशि भेजी जाती है.

कुल मिलाकर साल में किसानों को 6 हजार रुपये दिए जाते हैं. ऐसा करके सरकार किसानों का जीवनस्तर और बेहतर करने की कोशिश कर रही है.

इस योजना के तहत किसानों के खाते में 11वीं किस्त 31 मई 2022 को भेजी जा चुकी है. किसानों को अब 12वीं किस्त का इंतजार है.

लेटेस्ट रिपोर्ट के मुताबिक, किसानों को सितंबर महीने में किसी भी तारीख को 2 हजार रुपये की राशि भेजी जा सकती है.

 

अवैध लाभार्थियों को नोटिस

इधर पीएम किसान योजना का अवैध तरीके से फायदा उठाने के कई मामले सामने आए हैं.

इन अवैध लाभार्थियों को पैसे वापस लौटाने के लिए नोटिस भेजा जा रहा है.

नोटिस भेजने की यह प्रकिया कई महीनों से चल रही है. पैसे वापस नहीं करने पर इन लोगों के खिलाफ कार्रवाई भी की जा सकती है.

 

चेक करें लिस्ट में आपका नाम तो नहीं
  • आप भी ऑनलाइन माध्यम से चेक कर सकते हैं कि आपको पैसे वापस करने हैं या नहीं.
  • इसके लिए आपको फॉर्मर कॉर्नर पर रिफंड ऑनलाइन का ऑप्शन दिखेगा.
  • यहां क्लिक करने पर एक पेज खुलेगा. यहां मांगी गई सारी जानकारियों को भर दें.
  • इसके बाद यहां पर अपना 12 अंकों का आधार नंबर, बैंक खाता संख्या या फिर मोबाइल नंबर दर्ज करना है.
  • फिर कैप्‍चा कोड दर्ज कर ‘गेट डेटा’ पर क्लिक करें.
  • अगर स्क्रीन पर आपको ‘You are not eligible for any refund amount’ का मैसेज नजर आता है, तो आपको पैसा वापस नहीं करना होगा.
  • अगर रिफंड अमाउंट का ऑप्शन दिखता है, तो समझ जाइए कि आपको कभी भी पैसे वापस करने का नोटिस आ सकता है.

 

करा लें ई-केवाईसी

सरकार ने ई-केवाईसी की तारीख बढ़ाकर 31 जुलाई कर दी है.

इस तारीख तक ई-केवाईसी नहीं कराने वाले किसान 12वीं किस्त से वंचित रह सकते हैं.

यह भी पढ़े : अधिक पैदावार के लिए बुआई से पहले ज़रूर करें बीज अंकुरण परीक्षण

 

यह भी पढ़े : खरीफ फसलों की बीमा-दरें निर्धारित, अंतिम तारीख 31 जुलाई

 

शेयर करे