हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

पुदीना में है बंपर कमाई, इस तरह खेती करने पर हो जाएंगे मालामाल

पुदीना की खेती के लिए मिट्टी का पीएच मान 6 से 7.5 के बीच अच्छा होता है.

जिस खेत में किसान भाई पुदीना की खेती कर रहे हैं, उसमें जल निकासी की अच्छी व्यवस्था होनी चाहिए.

 

पुदीना एक औषधीय पौधा है. इसका उपयोग आयुर्वेदिक मेडिसिन बनाने में किया जाता है.

ऐसे पुदीना की चटनी खाना भी लोग बहुत पसंद करते हैं. गर्मी के मौसम आते ही मार्केट में पुदीना की मांग बढ़ जाती है.

मार्केट में जगह- जगह पुदीना के ड्रिंक्स बिकते हुए मिल जाते हैं.

गर्मी के मौसम में कोई नकम, पानी और पुदीना से बने ड्रिंक्स पीना पसंद करता है, तो किसी को पुदीना लस्सी पसंद आता है.

ऐसे पुदीना एक एंटी-ऑक्सीडेंट औषधीय पौधा है.

इसमें विटामिन सी, विटामिन ई, विटामिन ए, मिनरल्स और पोषक तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं. पुदीना का सेवन करने से शरीर की इम्यूनिटी बढ़ जाती है.

 

पुदीना की खेती

अगर किसान पुदीना की खेती करते हैं, तो अच्छी कमाई कर सकते हैं.

ऐसे भी कई राज्य में सरकार समय- समय पर पुदीना की खेती करने वाले किसानों को सब्सिडी देती रहती है.

पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक पुदीना की खेती होती है.

पुदीना (Peppermint) की खासियत है कि एक बार खेती करने पर आप दो बार इसकी फसल की कटाई कर सकते हैं. ऐसे में मुनाफा डबल हो जाता है.

 

मिट्टी का पीएच मान 6 से 7.5 के बीच अच्छा होता है

पुदीना की खेती के लिए मिट्टी का पीएच मान 6 से 7.5 के बीच होना चाहिए.

जिस खेत में किसान भाई पुदीना की खेती कर रहे हैं, उसमें जल निकासी की अच्छी व्यवस्था होनी चाहिए.

अगर आप पुदीना की खेती करना चाहते हैं, तो सबसे पहले खेत की कई बार जुताई करें.

मिट्टी भुरभुरी हो जाने के बाद पाटा चलाकर खेत को समतल कर लें. रासायनिक की जगह जैविक खाद का ही इस्तेमाल करें.

आप एक हेक्टेयर में 10 टन गोबर से बने जैविक खाद का इस्तेमाल कर सकते हैं.

अगर किसान भाई चाहें, तो जैविक खाद में 60 किलो फॉस्फोरस, 50 किलो नाइट्रोजन और 45 किलो पोटाश भी मिलाकर डाल सकते हैं. इससे पुदीना की पैदावार बढ़ जाती है.

 

इतने दिनों में तैयार हो जाती है पुदीना की फसल

पुदीना की जड़ों की रोपाई के लिए जनवरी और फरवरी का महीना बेहतर होता है.

अगर आप देर से इसकी खेती करेंगे, तो अच्छी पैदावार नहीं होगी.

लेकिन पुदीना की कुछ ऐसी किस्में भी हैं, जिसकी खेती आप मार्च महीने में भी कर सकते हैं.

रोपाई करने के 100 से 120 दिन में पुदीना की फसल तैयार हो जाती है. यानी कि अब आप इसकी पहली कटाई कर सकते हैं.

जबकि, इसकी दूसरी कटाई 70 से 80 दिन बाद होती है.

अगर किसान भाई एक हेक्टेयर में पुदीना खेती करते हैं, तो 150 लाख रुपये तक की कमाई कर सकते हैं.

यह भी पढ़े : किसानों को मिलता है सीधे 3 लाख का लोन, वो भी कम ब्याज पर

 

यह भी पढ़े : सोयाबीन की बुआई से पहले किसान अपने खेतों में करें यह काम

 

शेयर करें