हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें
WhatsApp Group Join Now

अभी हुए फसल नुकसान के लिए किसानों को राहत राशि के साथ ही दिया जाएगा फसल बीमा योजना का लाभ

बीते कुछ दिनों से देश के विभिन्न राज्यों में बारिश एवं ओला वृष्टि से किसानों की फसलों को काफी नुकसान हो रहा है।

किसानों को हो रहे इस नुकसान की भरपाई जल्द की जा सके इसके लिए राज्य सरकारें एक्शन मोड में आ गई हैं।

मध्यप्रदेश में अभी हुई बारिश एवं ओला वृष्टि से राज्य की 51 तहसीलों के 520 गाँव में फसलों को भारी नुकसान हुआ है।

जिसको लेकर मध्य प्रदेश के मुख्य मंत्री ने कहा है कि ओलावृष्टि से निर्मित संकट में राज्य सरकार किसानों के साथ खड़ी है।

 

किसानों को दिया जाएगा मुआवजा

मुख्य मंत्री ने कहा कि ओलावृष्टि से प्रभावित जिलों में सर्वे का कार्य आरंभ कर दिया गया है।

एक सप्ताह में सर्वे कार्य पूर्ण कर किसानों को तत्काल राहत उपलब्ध कराई जाएगी।

सर्वे के लिए राजस्व, कृषि और पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभागों के संयुक्त दल गठित किए गए हैं।

 

दी जाएगी फसल बीमा की राशि

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सर्वे के साथ ही प्रभावित किसानों और उन्हें हुए नुकसान की सूची पंचायतों में चस्पां की जाएगी।

किसानों की ओर से प्राप्त आपत्तियों का निराकरण कर पूरी संवेदना और पारदर्शिता के साथ नुकसान का आंकलन किया भी किया जाएगा।

साथ ही किसानों को राहत राशि के साथ अद्यतन तकनीक से किए गए क्रॉप कटिंग एक्सपरिमेंट के आधार पर फसल बीमा योजना का लाभ उपलब्ध कराया जाएगा। 

किसानों को समय रहते नुकसान की भरपाई के लिए सर्वे के समानांतर ही फसल बीमा योजना के लिए आवश्यक कार्यवाही किए जाने के निर्देश उन्होंने अधिकारियों को दिए हैं।

इससे आरबीसी 6-4 में दी जाने वाली तात्कालिक राहत की राशि और फसल बीमा योजना का सहारा किसानों को मिल सकेगा।

फसलों के नुकसान के अलावा पशुहानि के लिए बढ़ी हुई राशि के अनुरूप राहत प्रदान की जाएगी।

 

51 तहसीलों में हुआ है फसलों को नुकसान

अभी राज्य के प्रभावित ज़िलों की 51 तहसीलों के 520 ग्रामों में 38 हजार 900 किसानों की 33 हजार 758 हेक्टेयर फसल प्रभावित होने की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है।

इसमें 12 जिलों में आकाशीय बिजली गिरने से 22 लोगों की मृत्यु भी हुई हैं।

 

प्राप्त आँकड़ों के मुताबिक़ अभी तक नर्मदापुरम, शहडोल, जबलपुर, चंबल, उज्जैन, सागर, इंदौर, ग्वालियर, रीवा और भोपाल संभाग के जिलों में 17 और 18 मार्च को वर्षा दर्ज की गई।

मंडला, बालाघाट, नर्मदापुरम, छिंदवाड़ा, नरसिंहपुर, कटनी, सिवनी और शहडोल जिलों में 19 मार्च को वर्षा दर्ज की गई।

इस तरह अभी तक कुल 20 जिलों में असामयिक वर्षा और ओलावृष्टि की जानकारी प्राप्त हुई है।

यह भी पढ़े : बीमार पशुओं तक पहुँचेगा अस्पताल, जल्द शुरू होंगी 406 पशु एंबुलेंस

 

यह भी पढ़े : प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत किसानों को मिलता हैं मुनाफा

 

शेयर करें