हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें
WhatsApp Group Join Now

मप्र के 11 जिलों में आज भारी बारिश का अलर्ट

 

बिजली गिरने की भी चेतावनी

 

विवार को एमपी के मौसम विभाग ने  11 जिलों में गरज चमक के साथ भारी बारिश की चेतावनी जारी की है।

 

मध्यप्रदेश में मानसून की विदाई के बाद एक बार फिर बारिश का दौर शुरु हो गया है।

पिछले 24 घंटे में एक दर्जन से ज्यादा जिलों में बारिश दर्ज की गई है।

आज रविवार को एमपी के मौसम विभाग ने  11 जिलों में गरज चमक के साथ भारी बारिश की चेतावनी जारी की है।

वही सभी संभागों में बारिश के साथ बिजली गिरने और चमकने की संभावना है।इसके चलते येलो अलर्ट जारी किया गया है।

 

येलो अलर्ट जारी किया गया

मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि आज 17 अक्टूबर 2021 को उमरिया, मंडला, बालघाट, सिवनी, डिंडौरी, श्योपुर, शिवपुरी, बैतूल, बुरहानपुर, राजगढ़, गुना जिलों में भारी बारिश की संभावना है।

वही रीवा, सागर, ग्वालियर, भोपाल, उज्जैन, ग्वालियर, इंदौर, जबलपुर,होशंगाबाद और चंबल संभागों में कई स्थानों पर बारिश के साथ बिजली गिरने और चमकने के चलते येलो अलर्ट जारी किया गया है।

वही 30-40 किमी की रफ्तार से हवा चलने की संभावना है।

 

बारिश का दौर जारी रहेगा

मौसम विभाग के अनुसार, वर्तमान में मध्य बंगाल की खाड़ी में निम्न दाब क्षेत्र बन रहा है, जिसके चलते लगातार नमी मिल रही है और मध्यप्रदेश में बारिश का सिलसिला शुरु हो है।

तेलंगाना और आंध्रप्रदेश के तट पर कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है, इससे आगामी दो से तीन दिन तक इस तरह की बारिश का दौर जारी रहेगा।

यह मानसून बाद की पहली बारिश होगी। इस बारिश से मौसम में तेजी से बदलाव आएगा।वही 17-18 अक्टूबर को भी बारिश के आसार है।

 

इन राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट

मौसम विभाग ने कई राज्यों के लिए भारी बारिश की चेतावनी जारी की है।

यहां अगले करीब 2 दिन तक तेज हवाओं के साथ भारी बारिश का दौर जारी रह सकता है।

दक्षिण प्रायद्वीपीय क्षेत्र, केरल, माहे, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, तमिलनाडु, पुडुचेरी और कराईकल में भारी बारिश का अनुमान जताया है।

यह 17 अक्टूबर, रविवार को क्षेत्र में अलग-अलग भारी वर्षा में बदल जाएगा। हवा की गति 40-50 किमी प्रति घंटे से 60 किमी प्रति घंटे तक रहेगी।

केरल तट से सटे लक्षद्वीप क्षेत्र से सटे दक्षिण-पूर्व अरब सागर, मालदीव-कोमोरिन क्षेत्रों और मन्नार की खाड़ी पर बहुत संभावना है।

मछुआरों को इन क्षेत्रों में नहीं जाने की सलाह दी है।

source

 

यह भी पढ़े : ये हैं प्याज की 5 सबसे उन्नत किस्में

 

यह भी पढ़े : खेत से ब्रोकली तोड़ने के मिलेंगे 63 लाख सालाना

 

यह भी पढ़े : खेत मे भर गया इतना पानी, कि नाव से मक्का निकलना पड़ा

 

शेयर करे