हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

अगली किस्त पाने के लिए अनिवार्य हैं ये सभी चीजें

PM Kisan Yojana

 

जनवरी के बजाए अब फरवरी में 13वीं आने की संभावना है.

ये सिर्फ उन्हीं किसानों के खाते में डायरेक्ट ट्रांसफर की जाएगी, जिनकी डोक्यूमेंट और वेरिफिकेशन अप-टू-डेट होंगे.

 

किसानों को आर्थिक सशक्तिकरण प्रदान करने वाली प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत 12 किस्तें ट्रांसफर हो चुकी हैं.

किसानों को 13वीं किस्त का बेसब्री से इंतजार है.

अटकलें लगाई जा रही थीं कि 13वीं किस्त का पैसा जनवरी में ट्रांसफर होगा, लेकिन अब 18 फरवरी तक ही खाते में 2,000 रुपये आने की संभावना जताई गई है.

जल्द पीएम किसान योजना को 50 महीने होने जा रहे हैं. इस दौरान स्कीम में कई छोटे-बड़े बदलाव हुए.

इन बदलावों के आधार पर ही 13वीं किस्त खाते में भेजी जाएगी.

13वीं किस्त की अवधि दिसंबर 2022 से मार्च 2023 तक है. इस बीच कभी-भी किसानों को 2,000 रुपये मिल सकते हैं.

ये पैसा टाइम पर हासिल करने के लिए कुछ डोक्यूमेंट अपडेट करवाने होंगे और वेरिफिकेशन की प्रोसेस भी पूरी करनी होगी, जो इस प्रकार है.

 

राशन कार्ड अपडेट करें

पीएम किसान योजना का लाभ आर्थिक तौर पर कमजोर वर्ग के किसानों को दिया जाता है.

2 हेक्टेयर या इससे कम जमीन वाले छोटे किसान ही 6,000 रुपये की सहायता राशि के असली हकदार होते हैं.

अब से सरकार ने किसानों के लिए राशन कार्ड डोक्यूमेंट को भी अनिवार्य कर दिया है, जो भी नए किसान इस स्कीम से जुड़ने जा रहे हैं, वो अपना राशन कार्ड अपलोड करना ना भूलें, क्योंकि नई किस्त भी राशन कार्ड की तर्ज पर ही भेजी जाएगी.

पुराने किसानों को भी जल्द राशन कार्ड अपलोड करने के निर्देश मिल सकते हैं.

 

ई-केवाईसी

पीएम किसान की सम्मान निधि पाने के लिए सिर्फ आधार कार्ड, पैन कार्ड या राशन कार्ड लगाने से काम नहीं चलने वाला.

अब से ई-केवाईसी यानी बैंक खाते को आधार नंबर से लिंक करना अनिवार्य हो गया है.

इस प्रोसेस को पूरा करने वाले लाखों किसानों को 12वीं किस्त भी अटकी हुई है तो बेहतर रहेगा कि आप जल्द से जल्द अपनी ई-केवाईसी अपडेट करवा लें.

यदि आपको भी 12वीं किस्त नहीं मिली है तो ई-केवाईसी की प्रक्रिया पूरा करने के बाद 12वीं और 13वीं किस्त का पैसा एक साथ मिल जाएगा.

अधिक जानकारी के लिए pmkisan.gov.in पर विजिट कर सकते हैं या अपने नजदीकी ई-मित्र केंद्र/ सीएससी सेंटर पर भी विजिट कर सकते हैं.

 

भूआलेखों का सत्यापन

11 वीं किस्त के बाद से ही पीएम किसान योजना में कई गड़बड़ियां देखी गई हैं.

एक ही परिवार के दो सदस्य पीएम किसान की किस्तों का लाभ ले रहे थे तो कुछ भूमिहीन और समृद्ध किसानों को भी इस योजना का लाभ मिल रहा था, जो पूरा तरह नियमों के सख्त खिलाफ हैं.

इस हेर-फेर को रोकने के लिए कृषि मंत्रालय ने भूआलेखों का सत्यापन यानी लैंड रिकॉर्ड के वेरिफिकेशन को अनिवार्य कर दिया है,

जिसमें किसान को अपने नाम पर खेत का खतरा, खतौनी, बी-1, रकबा आदि के कागजों की जांच और जमीन का फिजिकल वेरिफिकेशन करवाना होगा.

इसके लिए अपने जिले के कृषि  विभाग के कार्यालय में जल्द से जल्द संपर्क कर सकते हैं.

 

दस्तावेजों को रीचेक करें

पीएम किसान सम्मान निधि योजना की किस्तों में देरी होने का सबसे बड़ा कारण है कि किसान की गलत डीटेल दर्ज होना या डीटेल का अभाव होना.

ये किसानों की जिम्मेदारी है कि आवेदन के दौरान सही आधार नंबर, सही मोबाइल नंबर, सही बैंक खाता संख्या, सही पैन कार्ड नंबर और अपना पता भी सही दर्ज करवाएं.

यदि इनमें से किसी भी दस्तावेज में बदलाव हो रहा है तो अपने रजिस्ट्रेशन नंबर को pmkisan.gov.in पर दर्ज करके सारी जानकारी अपडेट कर दें, ताकि अगली-पिछली किस्त खाते में पहुंच जाए.

 

अपना स्टेटस चेक करें

पीएम किसान सम्मान निधि योजना की 13वीं किस्त आपके खाते में आएगी भी या नहीं, ये जानना बेहद आवश्यक है.

कहीं किसान इंतजार में बैठे रहें और किस्त खाते में पहुंचे ही ना, इसलिए अपने लाभार्थी स्टेटस की जांच करते रहें.

  • सबसे पहले pmkisan.gov.in पर जाएं.
  • Farmers Corner के सेक्शन में जाएं.
  • Beneficiary List पर क्लिक करें.
  • अपना राज्य, जिला, उप जिला, ब्लॉक और गांव को चुनें.
  • Get Report पर क्लिक करते ही रिपोर्ट खुल जाएंगी. यहां अपना नाम चेक करें.

यदि आपकी किस्त के Status के आगे ‘Rft Signed By State’ लिखा हुआ है, तो जल्द ही आपके बैंक खाते में सम्मान निधि का पैसा ट्रांसफर हो जाएगा.

यह भी पढ़े : गेहूं की उत्पादकता बढ़ाने के लिए इन खाद-उर्वरकों का करें छिड़काव

 

यह भी पढ़े : देशी गाय पालने वाले को मिलेगा 2 लाख रुपए का ईनाम

 

शेयर करें